बेटी बचाओ बेटी पढाओ हिंदी Beti Bachao Beti Padhao In Hindi Best Essay

by Lalit Banjara
0 comment
beti-bachao-beti-padhao-in-hindi

Beti Bachao Beti Padhao In Hindi बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थय मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास की एक महत्वपूर्ण योजना है.

इस पोस्ट में हम आपको beti bachao beti padhao essay भी साझा कर रहें है. बेटी बचाओ बेटी पढाओ निबंध के माध्यम से हम विभिन्न विषयों पर चर्चा करेंगे जैसे -:

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना क्या है?
  • योजना के उद्देश्य
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान की आवश्यकता
  • उपसंहार

आदि विषयों पर हम इस पोस्ट में चर्चा करेंगे तो आइये जानते है की आखिर क्या है Beti Bachao Beti Padhao In Hindi.

पढ़ें: महिला सशक्तिकरण पर निबंध – Women Empowerment Essay In Hindi

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना क्या है Beti Bachao Beti Padhao in Hindi


बेटी बचाओ बेटी पढाओ BBBP महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थय मंत्रालय और परिवार कल्याण मंत्रालय, एवं मानव संसाधन मंत्रालय की एक सयुंक्त पहल है. बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना की शुरुआत 22 जनवरी 2015 को की गयी थी.

भारत में तेजी से बढ़ते लिंगानुपात को रोकने तथा महिला एवं बालिका शिक्षा प्रोत्साहन के उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गयी थी. यह इसलिए आवश्यक है क्योंकि भारत की 2011 की जनगणना में हजार लड़कों में 943 लड़कियाँ थी.

क्या आपको पता है, UNICEF ने भारत में बाल लिंग अनुपात (Child Sex Ratio) में 195 देशों में 41 वाँ स्थान भारत को दिया है. इसका तात्पर्य है की हम लिंग अनुपात में 40 देशों से पीछे है. जो की काफी बड़ा अंतर है.

इसी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने संयुक्त पहल के माध्यम से बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना की शुरुआत की जिसे BBBP Scheme भी कहा जाता है.

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान की आवश्यकता: Beti Bachao Beti Padhao In Hindi


देश में महिलाओं और पुरुषों की संख्या में बड़े अंतर को दूर करने के लिए इस योजना की आवाश्यकता पड़ी. विगत कुछ वर्षों में जिस प्रकार भारत में लिंगानुपात की स्थिति थी उसमे बालिकाओं की संख्या और पुरुषों की संख्या में काफी बड़ा अंतर था.

इसी अंतर को दूर करने तथा महिलाओं एवं बालिकाओं को शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने हेतु उनकी शिक्षा सुनिश्चित करने हेतु तथा हर माँ बाप को बेटी और बेटे में असमानता के लिए जागरूक करने के उद्देश्य के साथ ही बेटीयों को आत्मनिर्भर बनाने तथा उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से उनके खिलाफ हो रहे अपराधों की रोकथाम तथा उन्हें अपने जीवन में प्रत्येक क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गयी |

विगत वर्षों में इस योजना के बाद आंकड़ों में काफी सुधार हुआ है, “बिल्डिंग डाइवर्सिटी इन एशिया पैसिफिक बोर्ड” नामक संस्था की ताजा रिपोर्ट के अनुसार विगत चार वर्षों में भारतीय कंपनियों के बोर्ड में महिलाओं की संख्या में लगभग 10% की बढ़ोत्तरी हुई है | यह बढ़ोत्तरी सबसे ज्यादा बिज़नस और कॉर्पोरेट वर्ल्ड वर्ल्ड में अंकित की गयी है.

बोर्ड की सूचना के अनुसार भारत में महिलाओं की बोर्ड में लगभग 18%, टेलिकॉम क्षेत्र में 12% और आई. टी क्षेत्र में 9% वित्तीय भागीदारी है |

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के उद्देश्य  -: Beti Padhao Beti Bachao Essay


Beti bachao beti padhao in hindi scheme benefit बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के विभिन्न उद्देश्य है इस प्रकार है:

  • पक्षपाती लिंगानुपात में कमी लाना
  • प्रत्येक बालिका की शिक्षा सुनिश्चित करना
  • योजना का उद्देश्य शिक्षा के माध्यम से बालिकाओं को स्वतंत्र रूप से सामाजिक और वित्तीय रूप से आत्मनिर्भर बनाना.
  • महिलाओं को बालिका के जन्म पर प्रोत्साहन राशि देना तथा बालिकाओं के लिए कल्याणकारी सेवाएँ वितरित करने में सुधार करना.

लाडली लक्ष्मी योजना – वर्तमान में सरकार द्वारा लाडली लक्ष्मी योजना के माध्यम से बेटी के जन्म (पंजीयन से) अगले पांच साल तक प्रत्येक वर्ष 6,000 रुपये उसके नाम से जमा किये जाते हैं. जिसके अंतर्गत 30,000 रुपये बालिका के नाम से जमा किये जायेंगे. तथा बेटी के छठी कक्षा में प्रवेश के समय 2,000 और नौवी कक्षा में प्रवेश पर 4,000 रुपये का भुगतान सुनिश्चित किया जाता है.

सुकन्या सम्रद्धि योजना: बेटियों के लिए केंद्र सरकार की एक महत्वपूर्ण छोटी बचत योजना है जिसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ स्कीम के तहत शुरू किया गया है. छोटी बचत स्कीम में सुकन्या SSY सबसे बेहतर ब्याज दर वाली योजनाओं में से एक है. जिसके अंतर्गत साल 2016 – 17 में 9.1 प्रतिशत की दर से जमा राशि पर ब्याज दिया जाता था जो इनकम टैक्स छूट के साथ है. एवं वर्तमान में यह जमा राशि पर 8.4 प्रतिशत ब्याज देता है.

  • योजना के उद्देश्यों में लिंगानुपात में कमी लाना मुख्या उद्देश्य है. ताकि महिलाओं के साथ हो रहे भेदभाव और उनके प्रति बढ़ रहे अपराधों की रोकथाम है.
  • शिक्षा के साथ साथ बेटियों को एक सुनहरे भविष्य की तरफ अग्रसर करने हेतु छात्रवृत्ति के माध्यम से उन्हें उच्च शिक्षा हेतु प्रोत्साहित करना और आत्मनिर्भर बनाना है.
  • बेटियों को अन्य क्षेत्रों में आगे बढाने एवं उनकी भागीदारी को सुनिश्चित करना भी इस योजना का मुख्य उद्देश्य है |
  • इस योजना का उद्देश्य बेटियों के प्रति बढ़ रहे अपराधों की रोकथाम और सुरक्षा सुनिश्चित करना भी है.

उपसंहार

बालिका के बिना इस संसार की कल्पना भी नही की जा सकती, क्योंकि जब एक बालक को पढाया जाता है तो केवल एक इंसान ही शिक्षित होता है, जबकि एक बालिका को पढ़ाने से दो – दो परिवार साक्षर होते है.

साक्षर माँ ही अपने बच्चे का चरित्र निर्माण करती है. अतः वह जन्म दायिनी ही नही बल्कि चरित्र निर्माता भी है. बेटी न सिर्फ एक बेटी होती है बल्कि वही बेटी अपने परिवार के सुख दुःख में ढाल बनकर हमेशा परिवार के साथ खड़ी होती है. बल्कि बहिन बनकर भाई का सहयोग करती है, तो वही पत्नी बनकर अपने परिवार का हर सुख दुःख में साथ देती है.

अतः हमारे इस महान देश में महिलाओं हेतु न सिर्फ ऐसी योजनाओं का होना हमारे देश की सामाजिक और आर्थिक प्रगति के लिए आवश्यक है बल्कि हमारे देश के समग्र विकास के लिए भी बेहद आवश्यक है. जो आज हमारे देश की महिलाओं के जीवन में बदलाव लाने में काफी कारगर साबित हुई है.

Beti Bachao Beti Padhao in Hindi इस पोस्ट में हमने बेटी बचाओ बेटी पढ़ो योजना क्या है और बेटी बचाओ बेटी पढाओ निबंध भी साझा किया, तो दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बतायें और ऐसी ही और पोस्ट पढ़ते रहने के लिए हमें subscribe करें.

इन्हें भी पढ़ें

Leave a Comment

कमेंट के माध्यम से दी गयी आपकी जानकारी पूरी तरह से सुरक्षित और गोपनीय है, आपका कीमती टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करती है. धन्यवाद

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More